हिमांशु रॉय: 'सुपरकॉप' जिनसे डरता था पूरा अंडरवर्ल्ड, जानें 10 खास बातें

swister-news-blog

नई दिल्ली : महाराष्ट्र के पूर्व एटीएस प्रमुख हिमांशु रॉय ने शुक्रवार (11 मई) को खुदकुशी कर ली है. उन्‍होंने अपने सरकारी आवास में मुंह में रिवॉल्‍वर रखकर गोली चला ली. आवास में गोली आवाज आने के बाद आनन-फानन में लोगों ने हिमांशु को नजदीकी बॉम्बे अस्पताल में भर्ती करॉया, जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. हिमांशु रॉय का नाम महाराष्ट्र पुलिस के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों से लिखा जाएगा, क्योंकि उन्होंने ना सिर्फ कई बड़े पदों की जिम्मेदारियां निभाई बल्कि कई बड़े क्रिमिनल केसों को भी सुलझाया. महाराष्ट्र में एक ऐसा वक्त भी हुआ करता था जब बड़े-बड़े अपराधी सिर्फ हिमांशु का नाम लेने से ही डर जाते थे.
हिमांशु रॉय के बारे में खास बातें...
 ये भी पढ़ें : हिमांशु रॉय: अकेले ऐसे पुलिस ऑफिसर, जिन्हें मिली थी Z+ सुरक्षा, अंडरवर्ल्ड से था खतरा

- 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी रहे हिमांशु रॉय मुंबई एटीएस के चीफ भी रहे हैं. उन्होंने मुंबई के प्रख्यात कॉलेज सेंट जेवियर कॉलेज से पढ़ाई की थी.
- हिमांशु रॉय को महाराष्ट्र पुलिस सख्त और कड़े एक्शन लेने के लिए जाना जाता था. प्रदेश के कई बड़े क्रिमिनल केस की गुत्थी सुलझाने में हिमांशु ने बड़ा काम किया था. पुलिस महकमे में लोग उन्हें एनकाउंटर स्पेशलिस्ट कहकर बुलाते थे.
यह भी पढ़ें : महाराष्ट्र पुलिस के ADG 'सुपरकॉप' हिमांशु राय ने खुद को मारी गोली, जीटी अस्‍पताल लाया गया पार्थिव शरीर
- उनका नाम सबसे पहले सुर्खियों में उस वक्त आया था, जब 2013 में इंडियन प्रीमियर लीग मैच के दौरान स्पॉट फिक्सिंग के मामले में उन्होंने बिग बॉस फेम विंदु दारा सिंह को गिरफ्तार किया था.
- कहा जाता है कि भारत में दाऊद की अब तक जितनी भी संपत्तियां जब्त हुई हैं उसके पीछे भी हिमांशु रॉय का ही हाथ था.
- हिमांशु का नाम अंडरवर्ल्ड की कवरेज करने वाले चर्चित पत्रकार जेडे की हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए भी जाना था.
- हिमांशु रॉय मुंबई पुलिस के पहले अधिकारी थे, जिन्हें प्रशासन की ओर से जेड+ श्रेणी की सुरक्षा दी गई थी. हिमांशु के अलावा यह सुरक्षा राकेश मारिया को मिली हुई है.

- उन्‍होंने विजय पालंदे और लैला खान दोहरे हत्‍याकांड और पल्लवी पुर्खायस्ता हत्‍याकांड की भी जांच की थी और मामले का निष्कर्म निकाल था.
- वह 1995 में नासिक (ग्रामीण) में बतौर पुलिस अधीक्षक नियुक्त किए गए थे. इसके बाद वे अहमदनगर पुलिस निरीक्षक के रूप में कार्यरत हुए. इसके अलावा वह नासिक के पुलिस उपायुक्त पद का कार्यभार सौंपा गया था. 2009 में हिमांशु को मुंबई में बतौर संयुक्त पुलिस आयुक्त के रूप में नियुक्त किया गया था.
Previous Post
Next Post
Related Posts